Sunday, March 6, 2016

शाहिद अनवर

शाहिद अनवर भावुक और दूसरों की फिक्र करने वाले इंसान थे। यूँ वे चीजों को सैद्धांतिक ढंग से देखते थे, लेकिन उनका मन हमेशा ऐसे कथानकों से प्रभावित होता, जिनमें एक भावुक दुस्साहस होता। उनके लिखे या उनके चुने हुए नाटकों के पात्र ऐसी बेचैनी से भरे होते जो अपनी एकांतिकता में प्रायः एक रोमांटिक शक्ल ले लेती। इस बेचैनी का कोई निराकरण नहीं था। शाहिद भी एक ऐसे ही बेचैन रोमांटिक थे। वे बहुधा अन्य लोगों की तरह जमाने की ज्यादतियों से कतराने वालों में नहीं थे, बल्कि निरंतर इनसे मुठभेड़ में रहते। उन्होंने अपने आसपास युवाओं, रचनाकर्मियों, कलाकर्मियों की एक ऐसी छोटी-सी दुनिया आबाद कर ली थी जहाँ से उन्हें इस निरंतर चलने वाली मुठभेड़ के लिए ऊर्जा मिलती थी और जिसकी समस्याएँ सुलझाने में उनका बहुत समय भी खर्च होता। थिएटर ग्रुप बहुरूप की सक्रियता और इधर के अरसे में बहुत समय लेने लग गई नौकरी ने उन्हें इस कदर मसरूफ कर दिया था कि जब भी मिलते तो कुछ अन्यमनस्क और भागने की हड़बड़ी में। उनके जैसे अरमानों से भरे व्यक्ति को इस रूप में देखना मन को उदास करता था।
शाहिद अपने स्वभाव और अपनी रौ में जीने वाले इंसान थे। विदेश यात्रा या कमेटियों का सदस्य होने जैसे प्रलोभनों का उन्हें कोई आकर्षण नहीं था; मेरी जानकारी में कुछ मौकों पर उन्होंने इन्हें ठुकराया भी। उन्हें बस उतना ही चाहिए था कि उनकी दुनिया चलती रहे। न उन्हें कंजूसी का अभ्यास था न जुगाड़बाजी चाहिए थी। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो शाहिद बिल्कुल भी जटिल व्यक्ति नहीं थे। वे थोड़ा-सा जटिल हो गए होते तो शायद उनकी जिंदगी कुछ आसान होती। प्रत्यक्षतः उनकी मृत्यु उनकी लापरवाही का ही नतीजा थी— लीवर और हृदय तक रक्त का संचार करने वाली तीन धमनियाँ अवरुद्ध हो चुकने तक उन्होंने अस्पताल जाने की सुध नहीं ली।
मैं जानता था कि शाहिद यथार्थ के नहीं यूटोपिया के व्यक्ति हैं। वे अन्यमनस्क हो सकते थे, पर किसी यथार्थवादी की तरह भीतर से निराश नहीं। बहुरूप प्रायः जेएनयू के छात्रों का थिएटर ग्रुप रहा है। साल दर साल वे छात्रों की परीक्षा, छुट्टियों, क्लासेस का हिसाब रखते हुए प्रस्तुति की रूपरेखा बनाने का रंग-प्रबंधन करते रहे। मैंने कई बार उनसे शिकायत की कि उनका ग्रुप इतनी मेहनत करके प्रस्तुति तैयार करता है और उसके एक-दो शो ही हो पाते हैं, क्यों नहीं वे जेएनयू से बाहर निकलते! शाहिद के पास इसका कोई जवाब नहीं होता, पर एक बार उन्होंने यह कहा था कि उनके काम की कोई और सार्थकता हो या नहीं, पर कम से कम उनके साथ काम कर चुके लड़के भविष्य में ड्रग एडिक्ट और सांप्रदायिक तो नहीं बनेंगे। यही वो संकल्पना थी जो उन्हें निरंतर सक्रिय रखती थी।

No comments:

Post a Comment